Saturday, November 26, 2011

Chhabees gyarah...

Painting by Jamini Roy
 
Shukriya! Jo aap ne mujhse baat ki hai
Yadon mein rahegi
Shabdo ki jagah aaj kal aap
Mujhse bolne lagi hai woh bhasha mein
Jo kaan se sunai deti nahi
Na lafz se bola jati
Woh bhasa jo hazaar khwaish karney se bhi
Sunai nahi deti

Khamoshi!

Shukriya! Aap ne mujhe yaad dila diya
Ki guzrey huye din, aab lout ke nahi aayenge
Marne walley kabhi lautke nahi aayenge
Jo guzar gaya woh mor ke nahi dekhtey
Unkey bhasha  kaan se sunai nahi deti
Na lafz se boli jati
Woh bhasa jo hazaar khwaish karney se bhi
Sunai nahi deti

Khamoshi!

Insaan hu mein, koi pari nahi
Sapna dekhna haq samajhti hu mein
Awaaz hai, dilki dharkan sunai deti hi mujhe
Zinda hu aab bhi, alvidah na kahiye

Afsos! Aap mere kareeb nahi rahe
Samay ne loot li sacchayi saarey
Aur chor gayey hamarey dono ke beech
Woh bhasha jo kaan se sunai deti nahi
Na lafz se bola jati
Woh bhasa jo hazaar khwaish karney se bhi
Sunai nahi deti

Khamoshi!


-         
Julia Dutta, Delhi 26.11.11

छब्बीस ग्यारह...

शुक्रिया! जो आपने मुझसे बात की है
यादों में रहेगी
शब्दों की जगह आजकल आप
मुझसे बोलने लगे हैं वो भाषा में
जो कान से सुनाई देती नहीं
लफ्ज़ से बोली जाती
वो भाषा जो हज़ार ख्वाहिश करने से भी
सुनाई नहीं देती

खामोशी!

शुक्रिया! आपने मुझे याद दिला दिया
कि गुज़रे हुए दिन, अब लौट के नहीं आएँगे
मरने वाले कभी लौटके नही आएँगे
जो गुज़र गया वो मुड़ के नहीं देखते
उनकी भाषा कान से सुनाई नहीं देती
लफ्ज़ से बोली जाती
वो भाषा जो हज़ार ख्वाहिश करने से भी
सुनाई नहीं देती

खामोशी!

इन्सान हूँ मैं, कोई परी नहीं
सपना देखना हक समझती हूँ मैं
आवाज़ है, दिल की धड़कन सुनाई देती है मुझे
ज़िन्दा हूँ अब भी, अलविदा कहिए

अफसोस! आप मेरे करीब नहीं रहे
समय ने लूट ली सच्चाई सारी
और छोड़ गए हमारे दोनों के बीच
वो भाषा जो कान से सुनाई देती नहीं
लफ्ज़ से बोली जाती
वो भाषा जो हज़ार ख्वाहिश करने से भी
सुनाई नहीं देती

खामोशी!

जूलिया दत्ता, दिल्ली 26.11.11





Post a Comment